Mechanical Engineer, Columnist, fan of AK, MS, Ravish

Invocation of the section (on sedition) should only be in cases of slogans which incite violence and have a tendency to create public disorder. Our state rests on solid foundations which cannot be disturbed by ill-tempered or pungent or stupid slogans.

Misuse of the sedition law should attract appropriate penalties for law enforcement agencies coupled with a provision for compensation to the injured party.

Sedition was aptly described by Gandhiji “as the prince of the Indian Penal Code” (IPC). Regrettably, it has become the king of the IPC as evidenced by the indiscriminate manner in which charges are filed against an ex-president of the JNU Student’s Union and former students for allegedly “raising and supporting anti-national slogans”.

What is sedition, which is enacted by Section 124-A of the IPC? According to the Privy Council, it meant any statement that caused “disaffection”, namely, exciting in others certain bad feelings towards the government, even though there was no element of incitement to violence or rebellion.Advertising

The Constituent Assembly debates shed useful light on the subject of sedition. In the Draft Constitution, one of the heads of restrictions proposed on freedom of speech and expression was “sedition”. In the heyday of British colonialism, the sedition law was frequently invoked to crush the freedom movement and to incarcerate prominent nationalist leaders like Bal Gangadhar Tilak, Gandhiji, Jawaharlal Nehru and others. K M Munshi opposed the inclusion of “sedition” as a head of restriction and moved an amendment for its deletion.

In the course of the debates, Munshi urged that “now that we have a democratic government, a line must be drawn between criticism of government which should be welcome and incitement to violence which would undermine security or order on which civilised life is based. As a matter of fact the essence of democracy is criticism of government. The party system, which necessarily involves advocacy for the replacement of one government by another is its only bulwark; the advocacy of a different system of government should be welcome because that gives vitality to democracy.”Advertising

The founding fathers agreed with Munshi and deliberately omitted “sedition” as one of the permissible grounds of restriction on freedom of speech and expression under Article 19(2). Sedition remained as a criminal offence in the IPC and provides inter alia for a sentence of life imprisonment and fine upon conviction.

How did courts in India construe ‘sedition’? The Federal Court of India presided over by the distinguished chief justice, Maurice Gwyer, ruled that the sedition law is not to be invoked “to minister to the wounded vanity of government . The acts or words complained of must either incite disorder or must be such as to satisfy reasonable men that is their intention or tendency”.

Thereafter, our Supreme Court in its landmark decision pronounced in 1962 in Kedarnath vs. State of Bihar dissented from the view of the Privy Council and adopted the view of the Federal Court. The Court ruled that mere criticism of the government or comments on the administration, however vigorous or pungent or even ill-informed, did not constitute sedition. The Supreme Court limited the application of Section 124A (sedition) to acts involving intention or tendency to create disorder, or disturbance of law and order, or incitement to violence. Therefore, incitement to violence is the essential ingredient of the offence of sedition (emphasis added).

In 1995, the Supreme Court in the case of Balwant Singh vs. State of Punjab applied the principle in Kedarnath’s case to the prosecution of certain persons who raised the following slogans:

Advertisements

रफाल पर CAG ने कोई रिपोर्ट दी है जिसका ना संसद को पता न मीडिया को और तो और ये संसद के ज़रिए PAC को भी चली गई! लेकिन मल्लिकार्जुन खड़गे जी पीएसी के अध्यक्ष हैं और ऐसी कोई रिपोर्ट उन्होंने देखी ही नहीं

अब सवाल ये है कि सुप्रीम कोर्ट को ये जानकारी सरकार ने दी या इसका स्रोत कोई और है?

क्योंकि रफाल पर CAG की कोई रिपोर्ट अभी तक आई ही नहीं!

मोदी जी  #RafaleDeal पर इसका जवाब देदो कि:- 

  1.  540 का जहाज 1640 क्यों?
  2. 126 की जगह 36 ही क्यों?न
  3.  HALके बदले रिलायंस क्यो?
  4.  Technology ट्रांसफर क्यो नही हुई?
  5.  फ्रांस सरकार से गारण्टी क्यों नही ली?
  6.  JPC गठित क्यों नही कर रहे?
  7.  इस मुद्दे पर प्रेस वार्ता क्यों नही कर रहे?

#RafaleDeal पर स्पष्टीकरण ज़रूरी है।
सुप्रीम कोर्ट के फैसले में कहा गया है कि राफेल हवाई जहाज की कीमत के विवरण कैग की रिपोर्ट में लिखे हैं और उसे लोक लेखा समिति से साझा किया गया है।

Statement by Prasant Bhushan, Yashwant Sinha, Arun sorie on SC judgment on Rafael

https://drive.google.com/file/d/1bOKGU0FYlgcqGIOgZVAWrieBGt61KAF3/view?usp=drivesdk

SC judgment on Rafael https://www.scribd.com/document/395675340/SC-Rafale-Judgment-The-Indian-Express

Yogi Aditya nath call to Mr. Modi after Election results.

@BJP4India #ElectionResults2018

Score

BJP 00/5
Congress 3/5

“countdown of PM Modi governments fall has begun”

*रमन गया,रानी गई और गए शिवराज*
*अब तो नींद से जागिए ,भारत के सरताज* ||
UPA 2 जिस वजह से हारी थी आज BJP उसी कारण से हारी है

“अहंकार”

 

See the graph how BJP reducing ARROGANCE

The crisis within the CBI is not simply a civil war within the CBI. It is a deep crisis of the Indian state that at one stroke destroys whatever shards of credibility it had left. This whole saga has the makings of an ominous tragedy. Not a single institution comes out looking good. The culpability for this mess has directly reached the door of the prime minister. It is truly astonishing that the political establishment does not even feel the need to publicly respond on a major crisis of its making. With the latest round of allegations — and they are only allegations at the moment — the national security establishment is now also going to be dragged into the muck.

Every aspect of this train of events is shocking. The spectacle comes to public attention because the top two officers of the CBI accuse each other of serious corruption. Whatever the truth of the charges, it is clear that every single check and balance within the system had broken down. The appointments process is clearly broken. Let’s for a moment, grant Rakesh Asthana the presumption of innocence. But common sense tells us that a government directly intervening to appoint a person to a senior and powerful position, with an integrity cloud hanging over their conduct, against the objections of other senior leadership within the organisation, looks extraordinarily bad. In senior leadership positions, the criteria is not simply that the candidate has not been convicted. It has to be someone who commands unimpeachable credibility.

The matter is brought to the attention of the Supreme Court. The logic of what the Court will subject to scrutiny and what it will let pass is as mysterious as God’s propensity to inflict suffering. It has no compunction directly intervening in an ongoing defence deal. But it did not bat an eyelid when its own directives to secure the independence of the CBI were being flouted. Indeed what this muck has exposed is the Court’s utter naiveté when it comes to the CBI. It has not secured its independence, as much as it has further empowered an organisation that has always been the handmaiden of political power. The Court’s modus operandi is opaque. Either this is a public trial or this is not. The Court is not some parliamentary select committee that can receive state secrets under sealed covers, giving selective access to some interested parties and not to others. The argument that the Court is trying to protect the credibility of the CBI is laughably besides the point. Is it really the Court’s business to shore up the credibility of another organ of the state, or is it to determine guilt or innocence? It is touching to see the Court batting more for the CBI’s credibility than the CBI itself.


Then comes the CBI itself: An institutional debacle of Shakespearean proportions, where you don’t know whether to laugh or to cry.

The CBI is in a Catch 22 situation. Either the CBI has a lot of corrupt and guilty people. We now know because other CBI officers are saying so. Or if it does not, and this is merely a turf war as some are alleging, then the CBI has a lot of people who make other CBI officers look corrupt and guilty. Either way, the CBI’s credibility is doomed. And either way the citizens are left in the lurch. They are stuck with a corrupt organisation or an organisation that frames people. It is so touching to see CBI officers claiming to be victims or being framed by their fellow officers. If CBI officers don’t feel safe with their colleagues, imagine what it means for ordinary citizens?

Now another CBI officer has alleged that the National Security Advisor (NSA) directly interfered with the investigation. Allegations of this nature should be treated with all due caution; they can easily be used to derail honest men. I have no view on the Ajit Doval allegations. But even Doval should recognise that the government has created a mess of its own making. If mere allegations by CBI officers should not be enough to cast doubt on the integrity of high officials, why was the CBI director transferred summarily, without due process? Should the same yardstick be deployed for the NSA? After all, in this case, the CBI officer is prepared to go on record in the Court.

But there is an even deeper danger. As Shekhar Gupta pointed out in The Print on October 13, this government has brought about a tectonic shift in the relationship between the NSA and the rest of government. It has securitised all aspects of government by giving the NSA powers to summon practically anyone and side-lined conventional political and bureaucratic mechanisms that at least kept up the pretence of wider political and civil service accountability of the security state. So the stakes in the office of the NSA become even higher. Even apart from the current allegations, the empowering of the NSA should be a matter of concern. But with these lines blurred, should Doval be held to the same yardstick by the prime minister that he wanted to hold Alok Verma to, and that he refused to hold Asthana to prior to his appointment? The stench of arbitrariness is now inescapable. But don’t worry: Indian institutions are resilient. We will learn to hold our noses against this stench even tighter.

Watch here video

Demonstration

 

Dear Prime Minister We have given you 700 days, instead of 50 days you asked for, to show the 3LCr of Black money unearthed by Noteban.But far from getting anything, you now ask RBI to give you 3LCr from it’s reserves! Still we won’t burn you alive.

After allowing cronies like NiMo MehulBhai, Mallya, Sandesara etc to flee with more than 50K Cr & allowing Ambani/Adani to loot our Banks by siphoning out money abroad, Modi Govt asks RBI to give 3.6L Cr, more than a third of it’s reserves to the govt!y

2 years after #demonetization we know that the touted surgical strike on black money was a surgical strike on the poor, jobs & the economy. There was mass conversion of black money thanks to Shah’s & other banks. With economy in ruin, govt asks RBI to give it 3.6L Cr of reserves!

 

Though the list of financial scams of Modi govt is endless, demonetisation was a self inflicted deep wound on Indian economy which even two years later remains a mystery why the country was pushed into such a disaster ?

जेएनयू में जो भी घटनाक्रम चल रहा है, धीरे- धीरे उसकी असलियत सामने आ जाएगी, अखलाक के बारे में क्या अफवाह फैलाई गई लेकिन रिपोर्ट में सब कुछ अलग ही निकला । लेकिन जेएनयू की घटना के बाद आम लोग इस तरह भड़के हुए हैं कि खुले आम गोली मार देने की बात करने लगे हैं। राष्ट्रवाद और देशप्रेम के अंतर को समझने की कोशिश कीजियेगा।

कुछ साल पहले एक फिल्म देखने के दौरान राष्ट्रगान बजा तो रोहतक के थिएटर हॉल में सिर्फ तीन लड़कियां खड़ी हुईं । सभी को ये बात इतनी छू गयी कि उसके बाद से गणतंत्र दिवस की परेड के बाद बजने वाले राष्ट्रगान पर घर में भी खड़े हो जाते थे। 3 लड़कियों ने सिर्फ अपना फ़र्ज़ निभाकर दूसरों को फर्ज़ निभाने के लिए प्रेरित कर दिया। प्रेम कोई भी हो, महसूस होने की चीज़ है। मार-पीट कर महसूस नहीं करवाया जा सकता, आप ऐसा करते हैं तो आप किसी कुंठा के शिकार हैं जिसके बारे में शायद आप ही पता लगा पाएं।

भारत के संविधान की प्रस्तावना में साफ़-साफ़ कुछ शब्द लिखे हैं। जिस किसी ने दसवीं तक भी पढ़ाई की है, वो इससे वाकिफ़ होगा। प्रस्तावना में लिखा है कि हम समाजवादी हैं, हम धर्मनिरपेक्ष हैं, हम लोकतांत्रिक हैं। तो समझिए कि इनमें से किसी भी बात को गाली देने वाला राष्ट्र का अपमान कर रहा है ।

Read the rest of this entry »

Who is Good Human Being इसे लेकर कई सवाल मन मे आते है। एक अच्छे इंसान मे क्या क्या खूबिया होनी चाहिए? क्या सिर्फ सबके बारे मे सोचकर खुद को नुकसान पहुचाना ही एक अच्छे इंसान की खूबी है? क्या सिर्फ ज्यादा पैसे खर्चा करके दूसरों की मदद करने वाला ही अच्छा इंसान है? क्या गलती करके उसे पैसो से सुधार देने वाला अच्छा इंसान है? क्या जिसने पहले बहुत कुछ गलत किया हो और बाद मे अच्छाई के रास्ते पर चलने वाला एक अच्छा इंसान है ? आज हमारे दिमाग मे अच्छे इंसान को लेकर कई भ्रांतिया है हो सकता है कि जिसे हम अच्छा इंसान मानते है किसी और की नजर मे वो इंसान की छवि उसी तरह के अच्छे इंसान की नहीं हो ।

आज के समय मे दूसरों के सुख का ध्यान रखना ही एक अच्छे इंसान की खूबी नहीं है क्योकि न तो आप भगवान है न ही कोई महापुरूष, जो अपनी खुशियो का त्याग करके दूसरों को खुशिया दे । एक इंसान जो खुद खुश हो और जिसमे स्करात्मक एनर्जि हो वही दूसरों को भी खुशिया दे सकता

यह बात भी ध्यान रखिए कि अगर आप चाहे की आप एक अच्छे इंसान बनकर कुछ करना चाहेंगे तो आपके रास्ते मे कई बधाए आएंगी| जो आपको अपने रास्ते से चलने मे रोकेंगी या अपने रास्ते मे चलने नहीं देंगी, परंतु फिर भी अगर आपका निश्चय दृढ़ हो तो आप अपने रास्ते मे चलने मे कामयाब होंगे।

Who is Good Human Being & How to become a good person

एक अच्छा इंसान कैसे बना जाए

अब सवाल यह उठता है की एक अच्छा इंसान कैसे बना जाए? यहा मैं कुछ खूबिया बता रहा हूं जो आपको एक अच्छा इंसान बनने मे सहायक होगी

  1. जो इंसान अच्छे व बुरे में भेद कर सके वो एक अच्छा इंसान हैं ।
  2. जो आदमी मन, कर्म से ही नहीं वाणी से भी अच्छा हो
  3. हमारा कॉम्पन्सेट/कॉम्पॅन्सेट का लेवल कितना अच्छा है ये निर्भर करता है कि हम कितने महत्त्व Great fullness है
  4. हमारा सर्व करने का भाव कैसा है
  5. दान करते समय भाव कैसा है- मैं कृतज्ञ हूं कि आपने मेरा दान स्वीकार किया ।
  6. जो मेरे साथ ना हो वैसी कामना करे कि ये दूसरों के साथ भी ना हो एक अच्छा इंसान है ।
  7. लोगो की नजरों मे किसी और को नुकसान ना पहुचाना ही एक अच्छा इंसान होता है । परंतु एक अच्छा इंसान होना किसी और को नुकसान ना पहुचाना ही नहीं होता| कभी किसी और को आपकी मदद की जरूरत भी हो सकती है ।

    एक अच्छा इंसान होना दूसरों की सहायता करने के साथ साथ खुद की सहायता करना भी दर्शाता है यह आपको ही तय करना होगा कि आपकी नजर मे एक अच्छे इंसान मे क्या क्या खूबिया होनी चाहिए:

    • आपकी नजरों मे एक अच्छा इंसान कौन है यह तय करे तथा उसमे कौन कौन सी खूबिया है यह भी देखे तथा यह भी तय करे की एक अच्छे इंसान मे क्या क्या खूबिया होनी चाहिए तथा उन सब खूबियो को फॉलो करने की कोशिश करे ।
    • आपका अच्छा होना इस बात पर भी निर्भर करता है कि यदि आप कुछ अच्छा करते है तो क्या आप उसके बदले मे कुछ पाने की अपेक्षा करते है, या क्या आपने कोई काम इसलिए किया है ताकि आप दूसरों की नजरों मे अच्छे दिखे, या आप सही मे किसी की मदद करना चाहते है ? ध्यान रखे की यदि आप कुछ अच्छा करते है तो उसके बदले कुछ पाने की अपेक्षा छोड़ दे
    • Choose a role model( अपना रोल मॉडल चुने): आप अपना एक रोल मॉडल चुने जो आपको अच्छाई की राह पर चलने मे सहायता करेगा। सबसे पहले यह ध्यान दे कि व्यक्ति जो कि आपका रोल मॉडल है मे क्या खूबिया है जो आपको आकर्षित करती है |तथा सोचिए की यह सब चीजे आपके व्यक्तित्व को किस प्रकार निखार सकती है तथा इन सब चीजों को अपनी दिनचर्या मे कैसे शामिल करे|ताकि यह आपके व्यक्तित्व को निखारे ।

    जब आप अपना रोल मॉडल चुनते है तो इन बातो का ध्यान रखे :

    • आपका रोल मॉडल कौन है और आपने उसे अपना रोल मॉडल क्यों चुना है । इस बात का ध्यान रखे की उस व्यक्ति मे एसी क्या खूबिया है जो उसे समाज मे एक बेहतर इंसान बनाता है तथा आपके लिए भी सहायक होगी ।
    • इस बात का ध्यान रखे की आपके रोल मॉडल की कौनसी खूबिया आपको आकर्षित करती है तथा आप उसे कैसे अपना सकते है ।
    • जिस व्यक्ति को आप फॉलो करते है उससे हमेशा संपर्क मे रहे तथा ध्यान दे कि वह समाज मे कैसे रहता है तथा वह किस समय कैसा व्यवहार करता है तथा वह कठिन परिस्थितियों का कैसे सामना करता है ।
    • Stop comparing yourself with others (अपनी तुलना दूसरों से ना करे):

    अगर आप अपने को दुसरो से तुलना करते हो, जो कि बिलकुल गलत है| हो सकता है कि दुनिया मे कुछ लोग आपसे बेहतर हो पर्ंतु कई लोग ऐसे भी हो सकते है जो आपसे worse हो| जिनमे वो खूबिया ना हो जो एक अच्छे इंसान मे होना चाहिए और हो सकता है आप अपनी तुलना उनसे करके एक बहुत ही बड़ी गलती कर रहे है। याद रखें कि आप भी एक अलग इंसान है आपकी खुद की कुछ खूबिया है जो भगवान के द्वारा आपको उपहार स्वरूप दी गयी है आपको अपनी इन सब खूबियो की कद्र करनी चाहिए तथा याद रखिए यदि आप खुद खुश होंगे तब ही आप अन्य लोगो को भी खुश रख पाएंगे।

    • Love yourself (अपने आपको प्यार करने की आदत डालिए) : परिस्थिति मे अपने आपको प्यार करने की आदत डालिये। किसी को प्यार तथा खुशिया देने का सबसे अच्छा और पहला तरीका यही है कि सबसे पहले आप अपने आप को प्यार करे। आप क्या सोचते है और आप क्या चाहते है अगर आप वैसा ही करते है तो आप अच्छा महसूस करते है तथा ऐसे मे आप दूसरों को भी खुशियाँ दे सकते हैं । अगर आप खुद की परवाह किए बिना दूसरों के हिसाब से चीजे करने की कोशिश करेंगे तो हो सकता है कि आप चिड़चिड़े हो जाए तथा आपमे गुस्से की भावना आ जाए तथा ऐसी परिस्थिति मे आप अपनी ओर से अपना बेस्ट लोगो तक नहीं पहुचा पाएंगे
    • Be yourself (आप जैसे है वैसे ही व्यवहार करे) :किसी को फॉलो करने की कोशिश करेंगे तो यह सही नहीं होगा, और किसी नेता या पत्रकार का फैन बिल्कुल भी ना बने। क्योकि आप अपना बेस्ट तभी दे पाएंगे जब आप जैसे है वैसे ही रहकर ही कोई काम करने की कोशिश करेंगे। कई बार किसी और को फॉलो करने के चक्कर मे आप वैसा व्यवहार अपना लेते है जिसके आप आदि नहीं है ऐसे मे आप उन परिस्थियो मे आप अपनी क्षमता से कम काम कर पाते है इसके विपरीत यदि आप अपने अनुरूप कोई काम करते है तो आप अपना बेस्ट दे पाते है। यही कारण है कि मैं अरविंद केजरीवाल और रवीश कुमार NDTV का फैन होकर भी नहीं हूं।
    • Pray and meditate: आप जिस भी भगवान को मानते है उनमे विश्वास रखिए तथा रोज उनसे रोज प्रार्थना करने की आदत डलिये। इस बात को माने की जो भी होता है उसका कुछ उद्देश्य होता है| यदि आज आपके साथ कुछ गलत हुआ है तो बहुत जल्द कुछ अच्छा भी होगा। कभी भी अपने साथ कुछ गलत होने पर किसी और के साथ उससे भी ज्यादा गलत करने की भावना ना रखे ।

    यदि आप रोज मैडिटेशन करते है तो आपको आत्मिक शांति मिलती है और आप अपना बेहतर प्रदर्शन कर पाते है। अगर आपको आत्मिक शांति मिलती है तो आप अच्छी तरह से समझ पाते है की आप क्या चाहते है और उसे कैसे हासिल किया जा सकता है । और यकीन मानिए यदि आप अपने भगवान पर विश्वास करते है तथा रोज उनकी प्रार्थना करते है तथा रोज meditation को अपने रूटीन मे शामिल करते है तो आपको अपनी नकारात्मक ऊर्जा से मुक्ति मिलती है।

    Conscious Mind and Yoga’s book should be read you.

    आदमी जो कुछ भी होते हैं उसके पीछे महिलाओं का हाथ होता है ।

    पत्नी आपका घर चलाती है,
    मां आपका साथ देती है,
    आपकी दोस्त ज़िन्दगी की कठिन राहों में सहारा बनतीं हैं।

    आज मेरा पैगाम देश के सारे आदमीयों के नाम…

    महिलाएं सारे रिश्ते कितनी आसानी से पूरी ईमानदारी से निभा लेती हैं और उफ़ तक नहीं करती । मां, बीबी, बहन, बेटी, बहू सारे रिश्ते वे नौकरी भी करतीं हैं, घर भी संभालती है। उनकी इस चट्टान सी सहनशीलता को मेरा सलाम।

    “हर महिला को हर लड़की को इस देश में जो वह चाहे वह करने की आजादी है, आप सब से गुजारिश है कि अपनी मां का, अपनी बहन का, अपने किसी दोस्त का पूरा ख्याल रखें उनका निरादर न करें”

    “स्कूल और काम पे जाएंगे, पीरियड से न शर्माएंगे”

    “मन्दिर मस्जिद जाएंगे, पीरियड से न घबराएंगे”

    #MahilaSuraksha Azadi slogan

    अरे हम क्या चाहते, आज़ादी
    है हक़ हमारी, आज़ादी
    है जा़न से प्यारी, आज़ादी
    है प्यारी- प्यारी, आज़ादी
    जो तुम ना दोगे, आज़ादी
    हम ले के रहेंगे, आज़ादी
    हम छीन के लेंगे, आज़ादी

    नारी का नारा आज़ादी

    महिलाएं मांगें, आज़ादी
    आज़ाद देश में आज़ादी
    घरेलू हिंसा से, आज़ादी
    बलात्कार से, आज़ादी
    छेड़-छाड़ से आज़ादी
    रेपिस्टों से, आज़ादी
    पहनने की आज़ादी
    बोलने की आज़ादी
    ज़ोर ज़ुल्म से आज़ादी
    पितृसत्ता से आज़ादी
    मंदिर- मस्जिद में जाने की आज़ादी

    आदमी को कितना कुछ सीखना है उनसे, लेकिन मैंने देखा है, कुछ आदमी क्या करते हैं, वे महिलाओं के पहनावे पर टिप्पणीयां करते है, उनके चरित्र का मुल्यानकन करते हैं, उनके बारे में उल्टी-सीधी बातें करते हैं, छेड़ते हैं । जो आदमी महिलाओं की इज्जत घर के बाहर नहीं करते, वे अपनी घर की महिलाओं की कभी इज्जत नहीं कर सकते।

    मैं चाहता हूं हम भारत को एक ऐसा देश बनाएं जहां हर महिला आज़ादी महसूस कर सके, खुशी से रह सके। महिला दिवस के मौके पर देश की सभी महिलाओं को मेरा सलाम।
    महिला दिवस की बहुत-बहुत शुभकामनाएं।

    %d bloggers like this: